उस्ताद शाहिद परवेज़ ख़ानः एक साक्षात्कार आलेख और तस्वीरें सुनील दीपक, दिसम्बर 2006

परिचयः उस्ताद शाहिद परवेज़ ख़ान अपने सितार वादन के लिए भारत के प्रमुख शास्त्रीय सँगीतकारों में से गिने जाते है. उस्ताद वाहिद ख़ान के पोते और Ustaad Shahid Parvez Khanउस्ताद अज़ीज खान के सुपुत्र, शाहिद परवेज़ साहब इटावा घराने से हैं और प्रसिद्ध सितार वादक विलायत ख़ान के परिवार से सम्बंध रखते हैं. उनकी कला की प्रसिद्धि फ़ैली जब उन्होंने आठ साल की उम्र में पहली बार एक सँगीत जनसभा में अपनी कला को प्रस्तुत किया. वह गत 7 दिसम्बर 2006 को इटली में बोलोनिया में अपना सँगीत प्रस्तुत करने के लिए आये. उसके दौरान थोड़ी देर के लिए उनसे बात करना का मौका मिला जिसमें उन्होंने अपने बारे में बतायाः

बचपन: मेरा जन्म हुआ बम्बई में. हमारा परिवार संगीत से जुड़ा है, बहुत पुराना ख़ानदानी नाता है संगीत से. परिवार में मैं आठवीं पीढ़ी हूँ जो लगातार संगीत के क्षेत्र में है. मेरा बचपन ऐसा था कि जब चार साल का था तब सँगीत से मेरा नाता शुरु हुआ, साथ साथ पढ़ाई भी चली. जिस तरह आम बच्चे खेलकूद में बचपन बिताते हें, मेरा बचपन वैसा नहीं था. सारा समय रियाज़ और पढ़ाई में निकल जाता. सँगीत की साधना बहुत सख्त थी.

अगर आप सँगीत को पैशेवर स्तर पर अपनाते हैं तो उसके लिए बहुत मेहनत चाहिए. संगीत की शिक्षा बहुत कठिन होती है. अगर वह केवल शौक है तो उसमें मजा हो सकता है, आसान भी हो सकता है लेकिन अगर उसे गम्भीरता से पैशे की तरह लेना चाहते हैं तो उसके लिए बहुत सख़्त मेहनत और लगन चाहिए जो आसान नहीं.

सँगीत में काम करने का निर्णय: कला के क्षेत्र में हम इसलिए नहीं आये थे कि इसे हमने अपना पैशा बनाना था या पैसा कमाना था. यह बात थी मन में कि यह हमारा ख़ानदानी फ़न है और इसे सीखना है. आप इसे इत्तफ़ाक कह सकते हैं कि बाद में यही हमारा पैशा बन गया. जब शुरु किया तो कला सोच कर किया था, फ़िर जब लगा कि मुझे यही करना है तो पेशा भी बन गया.

मैंने यह कभी नहीं सोचा कि कुछ और काम करुँ. मुझे लगता था कि मैं तो पैदा ही इसीलिए हुआ हूँ कि सँगीत की कला में काम करूँ. पिछली सात पुश्तों से हमारे बाप, दादा, परदादा इसी सँगीत में लगे थे, अभी मेरे बच्चे भी इसी पेशे में आने वाले हैं. हमारे परिवार के कुछ लोगों ने कुछ और रास्ते भी चुने, अन्य पेशों की ओर गये, पर अधिकतर लोगों ने, 90 फ़ीसदी लोगों ने सँगीत को ही चुना.

फ़िल्मी और पश्चिमी सँगीत का प्रभाव: हम बचपन में सब तरह का सँगीत सुन सकते थे, कोई रोकटोक नहीं थी. हमें यह सिखलाया गया कि सब तरह का सँगीत सुनो, चाहे वह फ़िल्मी हो या पश्चिमी सँगीत, लेकिन अच्छा सँगीत सुनो.

अन्य सँगीत विधाओं से प्रेरणा लेना और बात है और उनसे मिला कर फ़्यूजन करना दूसरी बात है. मैं फ़्यूजन के खिलाफ़ नहीं हूँ अगर उससे कुछ अच्छी चीज़ बने तो अच्छा है. यह मेरा निजि विचार है, लेकिन मैंने अभी तक फ्यूजन सँगीत नहीं किया है. क्योंकि हमारा जो सँगीत है उसका मजा तो तभी है जब उसकी विशिष्टा, उसकी सच्चाई बनी रहे. उसे अन्य सँगीतों से मिला कर मुझे नहीं लगता कि वह अच्छा सँगीत रह जाता है. अगर शास्त्रीय सँगीत को ज़ैज़ या पश्चिमी सँगीत से मिला कर बजाया जाये तो वह न तो शंस्त्रीय सँगीत रहता है और न ही अच्छा पश्चिमी सँगीत, बस मिला जुला बन कर रह जाता है. यह अच्छा हो सकता है कि दुनिया के विभिन्न बड़े कलाकार मिल कर कुछ नया प्रयास करते हैं, तो मजा आ सकता है और उससे कुछ अच्छा भी बन सकता है. लेकिन आम तौर पर मेरा विचार है कि मिलाने से सँगीत की दृष्टि से कोई विषेश बढ़िया चीज नहीं बन सकती.

समय के साथ शास्त्रीय संगीत में परिवर्तन: संगीत समय के साथ बदलता रहता है. कला को परिवर्तनशील कहते हैं, वह बदलती रहती है जैसे समय के साथ हर Ustaad Shahid Parvez Khanचीज में बदलाव आता है. पर सँगीत की जो असली चीज़ है, उसकी जो नीव है, उसकी जो विशिष्ता है वह नहीं बदलती. मसलन जैसे राग है, राग तो वही रहता है पर उसे गाने या बजाने वाले, वह अपने तरीके बदलते रहते हैं. समय के साथ उसका तकनीकी स्तर बढ़ गया है.

शास्त्रीय सँगीत पहले चैम्बर सँगीत कहा जाता था जिसे छोटी जगह पर थोड़े से लोगों के लिए, विशेषकर उनके लिए जो स्वयं गाना बजाना जानते हैं या फ़िर उसको अच्छी तरह समझते थे, पेश किया जाता था. धीरे धीरे जब यह आम लोगों के लिए हुआ तो उसमें भिन्न प्रकार के लोग आने लगे, कुछ जिन्हे सँगीत की अच्छी समझ है, कुछ जिन्हें थोड़ी बहुत समझ है, कुछ जिन्हें बिल्कुल समझ नहीं और कुछ जो पहली बार इसे सुनने आये हैं, इन सब सुननेवालों का सोच कर सँगीत को पेश करने के तरीके में फ़र्क आ गया है, ताकि यह अधिक लोगों तक पहुँच सके. पर इससे सँगीत की असलियत में कोई अंतर नहीं आया है.

कला और प्रसिद्धि: कला और प्रसिद्धि दोनो अलग अलग चीज़ें हैं. असली चीज़ होती है कला और प्रसिद्धि है परछाईं. मैंने परछाईं को कभी नहीं पकड़ा, असली चीज़ को पकड़ा और परछाईं तो अपने आप ही साथ चलती है.

प्रसिद्धि और देश विदेश की यात्रा से जीवन और परिवार दोनों को कुछ बलिदान देना पड़ता है. अक्सर, परिवार से दूर रहना पड़ता है. जनता की नज़र में हैं तो आम लोगों की तरह अपने परिवार के उतने पास नहीं रह सकते, लेकिन हमारी भी व्यक्तिगत जिंदगी है, हमारा भी परिवार है. बच्चों के साथ, पत्नी के साथ वक्त कम मिलता है तो यह बलिदान है, जिसे हमारे बच्चे भी महसूस करते हैं और हम भी महसूस करते हैं.

***

कल्पना पर कला के बारे में आलेखों की सूची